Wednesday, 24 August 2016

सवाल हैं अनबूझे से ...जवाब कोई मिलता नहीं 
न जाने कितने "क्यों" घेरे रहते हैं रात दिन  ...!!! 
sks"💝
10.6.2016

न मिले ख़ुदा .. पसर जाए मातम ..
जो हमजुबां न रहे ..कहाँ जाएँ ग़म...!!
sks💝

वक़्त बढ़ चला 
वक़्त  से आगे.... 

एक उम्र है 
उम्र से आगे.....!! 

sks <3

पता है मुझे ...
दूसरों के हिस्से में तुम मुझसे ज़्यादा हो ..
तुम्हारा इत्तु सा भी चलता है मुझे मेरे लिए ...!!

sks💝
8.6.2016
जरुरी नहीं कि हर ख़्वाब पूरा हो,
रूठ जाएँ ख़्वाब, ऐसा कभी न हो ...!!

sks💝

No comments:

Post a Comment