Monday, 27 March 2017

फूल मिठाई वादे इश्क़
भरे पेट की बातें हैं...

एक रोटी -डे भी मना लो
बहुत लोग भूख के मारे है...!!!

कितना मुश्किल है यहां इंसान का इंसान होना
ईनसनियत -डे मनाने अभी बाकी हैं....!!!
-शालिनी
13.2.2017

No comments:

Post a Comment