Sunday, 10 December 2017



पल भर में सिमटा दिया...!
फिर कैद वहीं कर,
कुछ बरस महीने
न अता न पता ..
बस.. थोड़ी ही देर
बस.. इतना ही
पुराने कल से
अब वास्ता रहा ..!!
-शालिनी
25/9/2017

No comments:

Post a Comment